#Vitamins: अच्छी पाचन शक्ति के लिए ये 6 विटामिन्स हैं जरूरी, पेट संबंधी बीमारियों से बचाव के लिए!

Fytika Blog

#Vitamins: अच्छी पाचन शक्ति के लिए ये 6 विटामिन्स हैं जरूरी, पेट संबंधी बीमारियों से बचाव के लिए!

अनेक विटामिन्स ऐसे होते हैं, जो हमें नियमित रूप से अपने आहार में शामिल करने चाहिए। ये विटामिन्स हमारे शरीर के अंगों को स्वस्थ रखने के लिए बहुत जरूरी होते हैं। हम आपको कुछ ऐसे ही विटामिन्स बता रहे हैं, जो पाचन तंत्र को मजबूत करने में मदद करते हैं।

पूर्ण शरीर के स्वास्थ्य के लिए एक स्वस्थ आंत बहुत महत्वपूर्ण है। यह शरीर के प्रतिरक्षा प्रणाली का मूल होता है और कई गंभीर बीमारियां इसी हिस्से से जुड़ी होती हैं। कुछ आहार पदार्थ होते हैं, जो आपके आंत के स्वस्थ रखने में मदद करते हैं। कुछ विटामिन भी होते हैं, जो आपके पाचन तंत्र को मजबूत बनाने में मदद करते हैं। विभिन्न विटामिन्स नियमित रूप से खाद्य पदार्थों में शामिल होने चाहिए क्योंकि ये शरीर के अन्य अंगों के लिए भी बहुत आवश्यक होते हैं। हम आपको कुछ विटामिन्स और उनके स्रोतों के बारे में बताने जा रहे हैं, जो पाचन तंत्र को मजबूत बनाने में मदद करते हैं और रोगों से बचाते हैं।

विटामिन ए

विटामिन ए की कमी से आपको आंत संबंधी बीमारियों ( गैस्ट्रो इंटेस्टाइनल डिजीज ) का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए, विटामिन ए का पर्याप्त सेवन करना बहुत ज़रूरी है। यह आपके आंतों की म्यूकस को स्वस्थ बनाए रखता है। गाजर विटामिन ए का अच्छा स्रोत होता है इसलिए इसे खाने से आपका पाचन तंत्र और आंतें स्वस्थ रहेंगी।

विटामिन बी

विटामिन बी हमारे शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन और भोजन से ऊर्जा निकालने में मदद करता है। यह हमारे पाचन तंत्र को स्वस्थ बनाए रखता है और कई समस्याओं से बचाता है। विटामिन बी आंतों की सेहत को भी संतुलित रखता है और भूख को भी नियंत्रित करता है। इसकी कमी से उल्टी, डायरिया जैसी समस्याएं हो सकती हैं। विटामिन बी का स्रोत वसायुक्त मछली, डेयरी उत्पाद, पत्तेदार सब्जियां और मांस होते हैं। इसके कई प्रकार होते हैं और ये सभी अलग-अलग कार्यों के लिए उपयोगी होते हैं। इसलिए, विटामिन बी से भरपूर आहार का सेवन करने से हमारा पाचन तंत्र स्वस्थ बना रहता है।

विटामिन सी

विटामिन सी में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो शरीर को भोजन से आयरन अवशोषित करने में मदद करते हैं। इससे हमारे मसूड़े और दांत स्वस्थ और मजबूत रहते हैं। इस विटामिन के सप्लीमेंट भी उपलब्ध हैं। विटामिन सी के प्राकृतिक स्रोत में स्ट्रॉबेरी, खट्टे फल, ब्रोकली और मिर्च शामिल होते हैं। विटामिन सी सेहत के लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है। इससे हमारे इम्यून सिस्टम मजबूत होता है और पाचन तंत्र भी स्वस्थ रहता है।

विटामिन डी

आंत के लिए विटामिन डी का महत्व बेहद उच्च होता है। अगर शरीर में विटामिन डी की पूर्ण मात्रा होती है तो यह कोलन कैंसर जैसी बीमारियों को  रोकने में भी मदद करता है। हाल ही में एक अध्ययन ने बताया कि विटामिन डी हमारी मांसपेशियों और तंत्रिका के लिए फायदेमंद होता है। साथ ही विटामिन डी शरीर के कैल्शियम अवशोषण को भी सुनिश्चित करता है जो पाचन तंत्र के लिए लाभकारी होता है। इसके अलावा, विटामिन डी शरीर के प्रतिरक्षा प्रणाली और बाउल मूवमेंट को सही रखने में भी मदद करता है।

जिंक

जिंक हमारे शरीर के गट समस्याओं से निजात दिलाने में मदद करता है। यदि शरीर में जिंक की कमी होती है तो पाचन एंजाइम का उत्पादन कम हो जाता है और इससे अनेक समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं। आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बेहतर होती है, बल्कि इससे आपकी पाचन क्रिया और आंत के लिए भी जरूरी तत्व प्राप्त होते हैं। जिंक की कमी को पूरा करने के लिए, ऑस्टर, मीट, ड्राइ फ्रूट, पंपकिन सीड और ओट्स जैसी अनेक आहार सामग्रियों का सेवन किया जा सकता है।

आयरन

आयरन आपके पेट और आंत में मौजूद गुड बैक्टीरिया की संख्या बढ़ाता है जिससे आपके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। एक अध्ययन में पाया गया है कि आयरन सप्लीमेंट्स एंटी-इन्फ्लेमेटरी बैक्टीरियल मेटाबोलाइट को बढ़ाता है, जिससे गट बैक्टीरिया की संख्या में भी वृद्धि होती है। इससे आपको पेट से संबंधित समस्याओं जैसे कब्ज और पाचन संबंधी विकारों से बचाया जा सकता है।

निष्कर्ष

इन विटामिन्स को खाद्य पदार्थो के रूप में सेवन के साथ Fytika vita 365 का उपयोग गट हेल्थ के लिए लाभकारी है। Fytika Vita 365 एक मल्टीविटामिन टैबलेट है जिसमें विटामिन, खनिज, जिंसेंग, अश्वगंधा और प्रोबायोटिक माइक्रोन्यूट्रिएंट्स की खूबियों से भरपूर है। इसमें मौजूद प्रोबायोटिक आपकी आंत स्वस्थ रखने में मदद करता है, जो आपके शरीर के अच्छे बैक्टीरिया की संख्या को बढ़ाते हैं और सही पाचन तंत्र को बनाए रखते हैं। इसके अलावा, इसमें मौजूद विटामिन और खनिज आपके शरीर के विभिन्न अंगों और अंतःसंचार के लिए आवश्यक होते हैं। जिंसेंग और अश्वगंधा आपके शरीर को ऊर्जा देते हैं और आपको थकान से बचाते हैं।